करवा चौथ की व्रत कथा, पूजा विधि व शुभ मुहूर्त | Karwa Chauth 2022

दोस्तों! आज के ब्लॉग karwa chauth 2022 में हम आपके लिए करवाचौथ के व्रत के बारे में जानकारी लेकर आए हैं हम सभी ये जानते हैं यह व्रत स्त्रियों के द्वारा अपने पति की लंबी आयु की कामना के लिए रखा जाता है।

लेकिन इसके पीछे क्या कहानी है एवं इसका महत्व क्या है ये सब नही जानते हैं। आज का ये ब्लॉग आपके लिए पूरी जानकारी लेकर आया है। अतः इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें

karwa chauth 2021

करवा चौथ का त्योहार उत्तर भारत में अधिक लोकप्रिय है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और शुभ कामनाओं के लिए व्रत रखती हैं। करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास की कृष्ण चतुर्थी को मनाया जाता है।

अविवाहित लड़कियां भी करवा चौथ का व्रत रखती हैं और अच्छे पति की कामना करती हैं। इस साल करवा चौथ का व्रत 24 अक्टूबर 2021 दिन को पड़ रहा है।

यह त्योहार हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दौरान मनाया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक व्रत रखती हैं।

करवा चौथ का व्रत रखने वाली विवाहित महिलाएं चंद्रमा की पूजा करने के बाद व्रत तोड़ती हैं। महिलाएं एक हाथ में आटे की छलनी लेकर चंद्रमा को देखकर जल चढ़ाती हैं।

करवाचौथ का शुभ महूर्त Karwa chauth 2022-

वर्ष2021
करवाचौथ पूजा तिथि24 अक्टूबर
दिनरविवार
करवाचौथ पूजन मुहूर्त राहु काल आरंभशाम 04 बजकर 18 मिनट से
करवाचौथ पूजन मुहूर्त राहु काल समाप्तशाम 05 बजकर 43 मिनट पर
चंद्रोदय का समयरात्रि 08 बजकर 07 मिनट पर

करवाचौथ का महत्व Importance of Karva Chauth-

करवा चौथ शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है, करवा का अर्थ है ‘मिट्टी का घड़ा‘ और चौथ का अर्थ ‘चतुर्थी’। इस पर्व पर मिट्टी के बर्तन यानि कर्वे का विशेष महत्व माना गया है। सभी विवाहित महिलाएं साल भर इस त्योहार का इंतजार करती हैं और इसकी सभी रस्मों को बड़ी श्रद्धा के साथ निभाती हैं।

करवा चौथ का त्योहार पति-पत्नी के बीच मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक है। इस व्रत में शिव-पार्वती, कार्तिकेय और गौरा की पूजा करने का विधान है।

करवा चौथ का व्रत विधिपूर्वक करने से दाम्पत्य जीवन में सुख की प्राप्ति होती है। यह व्रत पति की लंबी आयु और सफलता के लिए रखा जाता है।

इस दिन विवाहित महिलाएं पूरे दिन अन्न-जल का त्याग कर करवा चौथ का व्रत रखती हैं। इस दिन महिलाएं चंद्रोदय तक निर्जल व्रत रखती हैं और चंद्रोदय के बाद ही जल का सेवन कर व्रत खोलती हैं।

करवाचौथ पूजन विधि karwa chauth pooja vidhi-

▪ करवा चौथ का उपवास दिवाली से 9 दिन पहले रखा जाता है।
▪ करवा चौथ के व्रत के दौरान सभी महिलाएं सूर्योदय से पहले भोजन करती हैं।
▪ नियम के मुताबिक वह दिन में न तो पानी पीती हैं और न ही खाना खाती हैं।
▪ शाम को व्रत के दौरान सभी महिलाएं करवा चौथ व्रत कथा का श्रवण करती हैं।
▪ व्रत के दौरान सभी पूजा करने वाली महिलाएं नई दुल्हन के रूप में तैयार होती हैं।
▪ वह नई सुंदर साड़ियाँ, चूड़ियाँ, टीका, बिंदी, नथनी, आभूषण और श्रृंगार पहनती है।
▪ शाम के समय सभी महिलाएं एक साथ मंदिरों में पूजा करती हैं।
▪ जहां पुजारी करवा चौथ के व्रत की कथा सुनाते हैं।
▪ महिलाएं खाना बनाती हैं और अपनी पूजा की थाली सजाती हैं।
▪ इस दिन परिवार के सदस्य मिल कर खुशियों में शामिल होते हैं।
▪ चंद्रोदय होते ही महिलाएं छलनी से में चंद्रमा देखती हैं।
▪ उसके बाद वह उसी छलनी से अपने पति के चेहरे को देखती है।
▪ और आशीर्वाद लेती है, पानी पीती है और अपना व्रत तोड़ती है।
▪ इस पूजा में सभी पत्नियां अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं।
▪ इस प्रकार करवा चौथ पूजा समाप्त होती है।

करवा चौथ पूजा के लिए महत्वपूर्ण सामग्री-

एक छोटा मिट्टी का बर्तन (श्री गणेश का एक रूप माना जाता है), स्वच्छ पानी से भरा धातु का कलश, फूल, अंबिका गौरी माता की एक छोटी मूर्ति, फल, मठरी और चावल हैं। इसके साथ ही थाली में सिंदूर, अगरबत्ती और चावल का होना भी जरूरी है।

देवताओं को चढ़ाने और उनकी पूजा करने के लिए ये सभी चीजें आवश्यक हैं। पूजा की सामग्री में सिंदूर, कंघी, शीशा, चूड़ी, मेहंदी आदि का दान किया जाता है। करवा चौथ के कारण बाजारों में महिलाओं की भारी भीड़ रहती है। महिलाएं नए कपड़े खरीदने के साथ-साथ डिजाइनर कपड़े भी खरीदती हैं।

करवाचौथ व्रत कथा karwa chauth vrat katha –

करवाचौथ व्रत से संबंधित पौराणिक कथाओं में से दो कथाएं बहुत प्रचलित हैं चलिए दोनो कहानियों को पढ़ते हैं-

पहली कहानी- प्राचीन कथाओं के अनुसार करवा चौथ का त्यौहार देवी-देवताओं के समय से चला आ रहा है। कथा के अनुसार एक बार देवताओं और दानवों के बीच युद्ध हुआ था। इस युद्ध में देवता पराजित होने वाले थे।

ऐसे में देवताओं ने ब्रह्मदेव के पास जाकर रक्षा की प्रार्थना की। ब्रह्मदेव ने कहा कि इस संकट से बचने के लिए सभी देवताओं की पत्नियां अपने-अपने पतियों के लिए व्रत रखें और अपनी जीत के लिए ईमानदारी से प्रार्थना करें ब्रह्मदेव ने वचन दिया कि ऐसा करने से देवताओं की इस युद्ध में अवश्य ही विजय होगी।

ब्रह्मदेव के इस सुझाव को सभी देवताओं और उनकी पत्नियों ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। ब्रह्मदेव के अनुसार कार्तिक मास की चतुर्थी के दिन सभी देवताओं की पत्नियों ने व्रत रखकर अपने पति यानि देवताओं की विजय की प्रार्थना की। उनकी प्रार्थना स्वीकार कर ली गई और देवताओं ने युद्ध जीत लिया।

यह शुभ समाचार सुनकर सभी देव पत्नियों ने व्रत तोड़ा और भोजन किया। उस समय आकाश में चन्द्रमा भी प्रकट हुआ था। ऐसा माना जाता है कि इसी दिन से करवा चौथ के व्रत की परंपरा शुरू हुई थी।

दूसरी कहानी– करवा चौथ त्योहार से संबंधित दो प्रसिद्ध कहानियां हैं, लेकिन एक जिसे व्रत के दौरान अधिकतर बताया जाता है वह कहानी वीरवती नाम की एक रानी की है। वीरवती अपने सात भाइयों में इकलौती बहन थी, और इसलिए वह परिवार में सबसे प्रिय थी।

उनकी शादी के बाद, रानी वीरवती का पहला करवा चौथ व्रत उनके माता-पिता के घर पर मनाया गया। रानी ने सूर्योदय से ही यह कठिन व्रत रखा था, लेकिन वह उत्सुकता से चंद्रमा के निकलने की प्रतीक्षा कर रही थी।

उसे प्यास और भूख से तड़पता देख उसके भाइयों ने पीपल के पेड़ पर छाया डाली, जिससे वह बिल्कुल उगते हुए चाँद जैसा दिखता था। वीरवती ने इसे चंद्रमा समझ लिया और व्रत तोड़ दिया।

हालाँकि, जिस क्षण उसने अपने मुँह में पहला कौर लिया, एक संदेश प्राप्त किया कि उसके पति की मृत्यु हो गई है। उसका मन बहुत उदास हो गया, वह रात भर रोती रही इसके बाद उसके सामने एक देवी प्रकट हुई।

और उसने कहा कि अगर वह अपने पति को जीवित देखना चाहती है, तो उसे फिर से करवा चौथ का व्रत समर्पण के साथ करना होगा, ताकि उसका पति जीवित रहे।

वीरवती ने उनके आदेशों का पालन किया और फिर से भक्ति और श्रद्धा के साथ करवा चौथ का उपवास किया। यह देखकर मृत्यु के देवता यम को अपने पति को जीवित करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

(Source : Jai verma)

निष्कर्ष Conclusion –

प्रिय पाठकों आपको करवाचौथ पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं। हमारे द्वारा आज की इस पोस्ट karwa chauth 2022 में करवाचौथ पर्व के बारे में दी गयी यह जानकारी आपको कैसी लगी। आशा करता हु आपको यह जानकारी बेहद पसंद आई होगी। दोस्तों इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर करके उन्हें करवाचौथ की बधाइयां दे। धन्यवाद दोस्तों !

यह भी पढ़ें –

Dhanteras 2021 में कब है ?
Diwali 2021 में कब है?
Govardhan Puja 2021 में कब है ?
Dussehra 2021: विजयदशमी कब है
जाने शरद नवरात्रि व्रत कथा

Leave a Comment

Your email address will not be published.