अनुशासन पर निबंध हिंदी में | Discipline Essay In Hindi (2022)

Best Discipline Essay In Hindi : अनुशासन सफलता की कुंजी है। एक महान और सुखी जीवन के लिए अनुशासन का होना बहुत जरूरी है। इस लेख अनुशासन पर निबंध में हम अनुशासन से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर रहे हैं। अनुशासन व्यक्ति को एक बेहतरीन जीवन जीने का तरीका बताता है। अनुशासन में रहने वाला व्यक्ति सदाचारी और गुणवान होता है।

यहां आप पढ़ेंगे short essay on discipline in hindi, essay on discipline in hindi, 10 lines on discipline in hindi, vidyarthi aur anushasan par nibandh, essay on discipline in hindi for class 5 हमें उम्मीद है कि हमारा यह लेख न केवल आपको परीक्षाओं में निबंध लिखने में मदद करेगा, बल्कि आपको अनुशासित रहने की प्रेरणा भी देगा अतः ब्लॉग पूरा ज़रूर पढ़िए।

discipline essay in hindi

अनुशासन पर छोटा निबंध Short essay on discipline in hindi –

अनुशासन हमारे जीवन का मूल मंत्र है। आज जो कोई भी एक सफल व्यक्ति है, उनकी जीवनी पर एक नज़र डालें, हर कोई अपने जीवन में अनुशासन के महत्व को समझ चुका है। महात्मा गांधी अपने जीवन में समय और दिनचर्या का बहुत सख्ती से पालन करते थे।

अगर आप अपने जीवन में सफल होना चाहते हैं तो आपके जीवन में अनुशासन का होना बहुत जरूरी है। बिना अनुशासन के आप अपने जीवन में कुछ भी हासिल नहीं कर सकते हैं और इसके बिना आप अपने सुखी जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं।

सुखी जीवन के लिए हमारे जीवन में अनुशासन का होना जरूरी है। अनुशासन से हम अपने जीवन में कई नई ऊंचाइयों को छू सकते हैं। यह हमें हमेशा सही रास्ते पर ले जाता है। अगर हमारे जीवन में अनुशासन नहीं है तो हमारे जीवन में बहुत सी समस्याएं आती-जाती रहती हैं।

अगर हमें एक सफल जीवन जीना है तो उसके लिए हमारे जीवन में अनुशासन बहुत जरूरी है। इसके बिना हम एक सफल जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते। अनुशासन सफलता की कुंजी है – किसी ने सही कहा है। मानव विकास के लिए अनुशासन बहुत आवश्यक है।

यदि मनुष्य अनुशासन में रहता है, तो वह अपने लिए एक सुखद और उज्ज्वल भविष्य का मार्ग निर्धारित करता है। अनुशासन हमें जीवन की सर्वोच्च ऊंचाइयों की सीढ़ी पर ले जाता है।

नियमों में रहकर अपना काम नियमित रूप से करना अनुशासन कहलाता है। विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का बहुत महत्व है। अनुशासन के बल पर ही वह अपना उज्जवल भविष्य बना सकता है। यदि उसके जीवन में अनुशासन नहीं होगा तो वह जीवन की दौड़ में पिछड़ जाएगा। अनुशासन की कमी उसे असफल बना देगी।

अनुशासन पर दूसरा निबंध Discipline essay in hindi

अनुशासन ही देश को महान बनाता है। यह कथन पूर्णतः सत्य है। अनुशासित नागरिक ही देश को प्रगति के पथ पर ले जाते हैं। इतिहास गवाह है कि किसी भी देश के नागरिकों की अनुशासनहीनता उस देश के पतन का कारण बनती है। अनुशासन से ही आम आदमी, समाज और राष्ट्र का विकास संभव है। राष्ट्र चट्टानों और पेड़ों से नहीं बल्कि उसके नागरिकों के चरित्र से बनता है

अनुशासन का अर्थ –

अनुशासन दो शब्दों से मिलकर बना है- अनु और शासन। अर्थात नियमों का पालन करना, अनुशासन हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है, यह हमें नियमों का पालन करना सिखाता है।

जिसकी मदद से हम किसी भी मंजिल को हासिल कर सकते हैं। अनुशासन दो प्रकार का होता है – एक जो हमें बाहरी समाज से मिलता है और दूसरा जो हमारे भीतर स्वयं से उत्पन्न होता है। कभी-कभी, हमें अपनी आत्म-अनुशासन की आदतों को सुधारने के लिए किसी प्रभावशाली व्यक्ति से प्रेरणा की आवश्यकता होती है।

अनुशासन का महत्व Importance of discipline –

अनुशासन का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। अनुशासन हमारे जीवन के सभी कार्यों को व्यवस्थित और संयमित तरीके से करने का एक महत्वपूर्ण तरीका है। अगर हम अपने जीवन में नियमित दिनचर्या का पालन करें तो हमारे जीवन में काफी सुधार हो सकता है।

जिन लोगों की दिनचर्या अस्त-व्यस्त हो जाती है, उनके जीवन में कभी अनुशासन नहीं होता और वे प्रतिदिन व्यर्थ के कार्यों में लग जाते हैं। अनुशासन से ही हम अपने जीवन को सार्थक बना सकते हैं।

अनुशासन के बिना जीवन बेकार हो जाता है। अनुशासन चीजों को आसान बनाता है और हमारे जीवन में सफलता प्राप्त करने में मदद करता है। अनुशासन दो प्रकार का होता है – आध्यात्मिक और बाह्य। अध्यात्म में मनुष्य अपनी प्रेरणा से अनुशासित होता है, जबकि दूसरे में भय, दंड, आदर्श आदि के कारण होता है।

इनमें मनुष्य का अनुशासन सर्वोत्तम माना जाता है। सजा को अब व्यक्तिगत विकास में बाधा माना जाता है। यदि अनुशासन को आचरण के रूप में स्वीकार किया जाता है, तो व्यक्ति इसे आत्म-प्रेरणा से स्वीकार करने लगता है।

 ▪ भाषा की परिभाषा और भेद हिंदी में

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व Importance of discipline in student life –

यदि कोई विद्यार्थी समय का सदुपयोग कर स्वयं को अनुशासित रखता है तो वह सफलता की सीढ़ियां अवश्य चढ़ता है। अनुशासन में रहकर विद्यार्थी नियमों का पालन करना भी सीखते हैं। अनुशासन का पालन करने से ही बच्चा भविष्य में आदर्श नागरिक बनता है।

एक आदर्श नागरिक बनकर ही वह समाज के लिए एक अच्छा उदाहरण बन सकता है। विद्यार्थी जीवन भावी मानव जीवन की आधारशिला है, व्यवहार करने के लिए वह इन सबकी शिक्षा विद्यार्थी जीवन में ही प्राप्त करता है और एक प्रकार से यह कहा जा सकता है कि शिक्षा देना और अनुशासन का पालन करना विद्यार्थी का कर्तव्य है।

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का बहुत महत्व है। अनुशासन के बल पर ही वह अपना उज्जवल भविष्य बना सकता है। यदि उसके जीवन में अनुशासन नहीं होगा तो वह जीवन की दौड़ में पिछड़ जाएगा। अनुशासन की कमी उसे असफल बना देगी।

छात्र के लिए अनुशासन में रहना और अपने सभी काम व्यवस्थित रूप से करना बहुत जरूरी है। यही वह मार्ग है जो उसे जीवन में सफलता दिलाता है।

अनुशासन के लाभ –

▪ जीवन में अनुशासन अपनाने के कई फायदे हैं।
▪ अनुशासित लोगों को जीवन के हर क्षेत्र में सम्मान और सफलता मिलती है।
▪ छात्रों के लिए अनुशासन सफलता का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है,
▪ यदि कोई छात्र अनुशासित दिनचर्या का पालन करता है और अपनी पढ़ाई करता है, तो उसे
निश्चित रूप से सफलता मिलती है।
▪ जो लोग अपने जीवन में अनुशासन को अपनाते हैं, वे कई तरह की परेशानियों से बच जाते हैं।
▪ अनुशासन से जीवन जीने वालों को अनुशासनहीन लोगों की तुलना में जीवन में कई लाभ मिलते हैं।

वर्तमान समय में अनुशासनहीनता का कारण

छात्रों की अनुशासनहीनता से सामाजिक, राजनीतिक, शैक्षिक और आर्थिक क्षेत्र सभी आतंकित हो गए हैं। अतः इस बढ़ती हुई अनुशासनहीनता के मूल कारणों पर विचार करना हमारे लिए आवश्यक प्रतीत होता है। वर्तमान समय में अनुशासनहीनता के निम्नलिखित कारण हैं-

▪ बच्चे के चरित्र का निर्माण घर के वातावरण से होता है। अशांत वातावरण में पला-बढ़ा बच्चा अशांति के अलावा कुछ नहीं सीख सकता। ऐसे घरों के बच्चे अनुशासन के लिए बड़ी समस्या खड़ी करते हैं। घर के खराब माहौल का एक सबसे बड़ा कारण माता-पिता के बीच शिक्षा की कमी है।

▪ आज भी भारत में बहुत से लोग साक्षर भी नहीं हैं। भारत में अधिकांश पुरुष परिवार पर ध्यान देने या बच्चों की उचित परवरिश करने के बजाय शराब, जुआ, भ्रष्टाचार जैसी बुराइयों से पीड़ित हैं।

▪ पैसा आज के समाज में मनुष्य की सबसे बड़ी जरूरत या शक्ति है। इस पैसे को पाने के लालच ने इंसान को इतना अंधा बना दिया है कि वह अपनी नैतिकता तक बेच देता है।

▪ वर्तमान शिक्षा प्रणाली पूरी तरह से दोषपूर्ण है। यह विशेष रूप से बौद्धिक विकास पर जोर देता है। वे उस शिक्षा में अपना विश्वास खो देते हैं जो एक अंधकारमय भविष्य प्रदान करती है और जब अवसर मिलता है, तो वे विद्रोह में उठ खड़े होते हैं। इस तरह अनुशासनहीनता का पनपना स्वाभाविक ही है।

▪ आज हमारे देश की सामाजिक स्थिति चरमरा गई है। स्वार्थ, घृणा, वैमनस्य, असहयोग, दुष्टता भ्रष्टाचार और भौतिक लाभ का बाजार गर्म है। हमारे छात्र इसी समाज से आते हैं, इसी में पैदा होते हैं, इसी में बड़े होते हैं और इसी हवा में सांस लेते हैं।

▪ आज मनोविज्ञान ने छात्रों के उचित मार्गदर्शन का मार्ग प्रशस्त किया है। लेकिन यह सौभाग्य गिने-चुने स्कूलों के छात्रों को ही मिलता है। अधिकांश स्कूलों में छात्रों के पास न तो विषय होता है और न ही करियर मार्गदर्शन। नतीजतन, वे अनुशासनहीनता और पथ भ्रष्टाचार के बीच बड़े होते हैं।

अनुशासन व्यक्ति के मन में उन सभी सकारात्मक नियमों और विनियमों को प्रशिक्षित करके पूर्णता लाता है। कहा जाता है कि छोटा बच्चा कच्ची मिट्टी की तरह होता है, जिसे जैसा आकार दिया जाता है, वैसा ही बन जाता है।

इसलिए जरूरी है कि बच्चों को बचपन से ही अनुशासन का महत्व बताया जाए और उन्हें इसका पालन करने के लिए प्रेरित किया जाए।

अनुशासन के मूल्य पर निबंध Value of discipline essay in hindi –

सुखी जीवन जीना बहुत जरूरी है और यह तभी संभव है जब हम इसमें अनुशासन बनाए रखें, अनुशासन के बिना कोई भी सुखी जीवन नहीं जी सकता। अनुशासन वह सब कुछ है जो हम सही समय पर सही तरीके से करते हैं। यह हमें सही रास्ते पर ले जाता है।

जीवन के सभी क्षेत्रों में अनुशासन को अत्यधिक महत्व दिया जाता है। स्कूल हो, घर हो, ऑफिस हो, संस्थान हो, फैक्ट्री हो, खेल का मैदान हो, युद्ध का मैदान हो या कोई अन्य जगह हो, हमें हर समय इसका पालन करना होता है।

जीवन में अनुशासन का महत्व Importance of discipline in life –

अगर हम नियमित रूप से एक अनुशासित दिनचर्या का पालन करते हैं, तो हम अपने जीवन स्तर को बहुत अच्छा बना सकते हैं। शोधों में देखा गया है कि जो लोग अपना जीवन अनुशासित तरीके से जीते हैं। वे व्यस्त दिनचर्या का पालन करने वालों की तुलना में अपने समय और ऊर्जा का बेहतर उपयोग करने में सक्षम हैं।

इसके साथ ही अनुशासन हमारे स्वास्थ्य और सामाजिक स्थिति को सुधारने में भी हमारी मदद करता है। यही कारण है कि जीवन में अनुशासन का पालन करने वालों को अनुशासनहीन लोगों से ज्यादा सम्मान और सफलता मिलती है।

वास्तव में अनुशासन का अर्थ यह नहीं है कि हम दूसरों के कार्यों का अनुसरण करके अपने जीवन में अनुशासन लाने का प्रयास करें, बल्कि हमें अपने जीवन में आत्म-अनुशासन का पालन करना चाहिए क्योंकि स्वयं अनुशासन का पालन करना ही सर्वोत्तम है, प्रत्येक व्यक्ति का लक्ष्य और तरीका है।

हमें सुबह जल्दी बिस्तर से उठकर एक गिलास पानी पीना चाहिए और खुद को तरोताजा रखना चाहिए। दांतों को रोजाना ब्रश करना चाहिए, नहाना चाहिए और फिर स्वस्थ नाश्ता करना चाहिए।

बिना भोजन किये हमें कभी भी विद्यालय नहीं जाना चाहिए और न ही कोई अन्य कार्य करना चाहिए। हमें अपना हर काम सही समय पर साफ-सुथरे और हाइजीनिक तरीके से करना चाहिए।

हमें अपने माता-पिता को कभी अस्वीकार नहीं करना चाहिए, उनका अपमान या नाराज नहीं करना चाहिए और हमेशा उनके आदेशों का पालन करना चाहिए।

अनुशासनहीनता एक अभिशाप –

असफलता, आलस्य, पराजय यह सब उस व्यक्ति को घेर लेता है जो अपने जीवन में अनुशासनहीनता रखता है। अनुशासन अप्रिय व्यक्ति समाज को भी नष्ट कर देता है दुर्भाग्य से आज स्कूलों, कॉलेजों, कार्यालयों में हर जगह अनुशासनहीनता बढ़ रही है।

जिसके कारण लड़ाई, झगड़े, काम की चोरी, रैगिंग जैसी खतरनाक चीजें जो अनुशासनहीनता से ही की जाती हैं। जिसमें कई बच्चे अपनी जान दे देते हैं, धर्म और समाज पर नियंत्रण खोता जा रहा है, अधिकारी, कर्मचारी खुद प्रशासन से अनुशासित होते जा रहे हैं।

अनुशासनहीन व्यक्ति का जीवन पूर्ण असफलता, आलस्य और पराजय है। यह सदा आदि से घिरा रहता है। समाज और परिवार में इसका कोई सम्मान नहीं है।

अनुशासन में रहने के तरीके –

अनुशासन बनाये रखने के लिए निम्न कथनों का पालन करना अनिवार्य है

▪ आज के काम आज ही पूरा करें, उसे कल के लिए न छोड़ें।
▪ अपने सभी काम पूरी लगन और मेहनत से करें।
▪ बुरी आदतों और बुरे कामों से हमेशा दूर रहें।
▪ अनुचित कामों से दूरी बनाकर रखें।
▪ संतुलित और नियमित दिनचर्या का पालन करना।
▪ कार्यों को समय पर पूरा करने का हर संभव प्रयास करें।
▪ व्यर्थ के कार्यों से दूर रहें।
▪ बुरी आदतों और कार्यों से दूर रहें।
▪ अपने काम के प्रति पूर्ण समर्पण रखें।

अनुशासन के बिना मानव जीवन में कोई कार्य नहीं होता है। विद्यार्थी जीवन वह धुरी है जिसकी अनुशासन छात्रों के भविष्य को खुशहाल बनाती है। अनुशासन के बिना मनुष्य का जीवन अधूरा होता है।

निष्कर्ष Conclusion-

दोस्तों आज हमारे द्वारा इस ज्ञानवर्धक पोस्ट discipline essay in hindi में लिखा गया यह निबंध आपको कैसा लगा। हमें कमेंट करके जरूर बताएं। उम्मीद करते हैं आप भी अनुशासन का असली महत्व समझ गए होंगे।हर व्यक्ति के जीवन में अनुशासन होना बहुत ही जरूरी होता है।

अनुशासन ही हमारे सफ़लता की कुंजी है। हमारे जीवन में इसका बहुत महत्व होता है। इसके अनुसार ही हमारे जीवन का भविष्य तय होता है। इसलिए हमें अपने जीवन में अनुशासन को महत्व देना चाहिए और एक अनुशासित जीवन जीना चाहिए।

यह भी पढ़ें-

महात्मा गाँधी पर निबन्ध
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध
दीवाली पर निबंध
कोविड-19 पर निबंध
समय के महत्व पर निबंध
मेरा विद्यालय पर निबंध

Leave a Comment

Your email address will not be published.